May 19, 2024

UDAIPUR NEWS CHANNEL

Udaipur News की ताज़ा खबरे हिन्दी में | ब्रेकिंग और लेटेस्ट न्यूज़

जबड़े के कैंसर से झूझ रहे गंभीर रोगी को कैंसरएवंह्रदय रोग विभाग के संयुक्त प्रयासों से मिला नया जीवन

1 min read

गीतांजली हॉस्पिटल सर्व सुविधाओं से युक्त हॉस्पिटल है| यहाँआने वाले रोगियों को मल्टी डिसिप्लिनरी दृष्टिकोण द्वारा इलाज किया जाता है| अभी हाल ही मेंभीलवाड़ा के रहने वाले 40 वर्षीयरोगी का काफीचुनौतियों के बाद सफल ऑपरेशन करके रोगी को नया जीवन प्रदान किया गया| इस हाई रिस्क ऑपरेशन को कैंसर सर्जन डॉ. आशीष जाखेटिया, डॉ. अरुण पाण्डेय एवं एनेस्थिस्ट डॉ . नवीन पाटीदार तथा कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. डैनी मंगलानी व उनकी टीम द्वारा किया गया|

कैंसरसर्जन डॉ आशीष ने बताया कि 40 वर्षीय रोगी जब गीतांजली कैंसर सेंटर आया उसको पहले जीभ का कैंसर था जिसका इलाज अहमदाबाद के निजी हॉस्पिटल में रेडियोथेरेपी एवं कीमोथेरेपी से हुआ था|छः माह पश्चात् रोगी के मुँह के नीचले जबड़े में कैंसर फैल गया चूँकि रोगी के मुँह में ये दूसरा कैंसर था और काफी जल्दी हुआ था, रोगी की उम्र अधिक नही थी इस कारण इस कैंसर का तुरंत इलाज करना आवश्यक था| रोगी व उसके परिवार के साथ डॉक्टर्स की ट्यूमर बोर्ड की मीटिंग की गयी, जिसमें मेडिकल, सर्जिकल, रेडिएशन, पेनमैनेजमेंटकी टीम सम्मिलित थी| रोगी की स्थिति को देखते हुए रोगी की सर्जरी करने का निर्णय लिया गया, इसके पश्चात् रोगी की सर्जरी के लिए आवश्यक सभी जांचे की गयी| जांचोमें पता लगा कि रोगी के ह्रदय का वाल्व जोकि खून को शरीर में धकेलता है वह सिकुड़ा हुआ था और इस वजह से खून का प्रवाह भी पूरी तरह से शरीर में नही जा रहा था ऐसे में रोगी का जबड़े का ऑपरेशन करने में जोखिम हो सकता था, गीतांजली हॉस्पिटल के ह्रदय रोग विशेज्ञ डॉ. डैनी मंगलानी से सलाह ली गयी| डॉ. डैनी ने बताया कि प्रायः ऐसी स्थिति होने पर रोगी का पी.ई. वाल्व बदलाजाता है| परन्तु यदि रोगी के ह्रदय का ऑपरेशन किया जाता तो कैंसर का ऑपरेशन करना संभव नहीं हो पाता| ऐसे में कैंसर व ह्रदय रोग विभाग की टीम द्वारा एक साथ निर्णय लिया गया, ह्रदय रोग विशेषज्ञोंटीम द्वारा रोगी की मिनिमल इनवेसिव सर्जरी द्वारा वाल्वोटॉमीकी गयीऔर छेद के माप को बड़ा कर दिया ये काफी दुर्लभ प्रक्रिया है| इसके पश्चात्कैंसर पेन एंड मैनेजमेंट एनेस्थेसियोलोजिस्ट  डॉ नवीन पाटीदार व टीम द्वारा रोगी का सम्पूर्ण मूल्यांकन किया गया चूँकि रोगी के केस में जोख़िम बहुत था, ऐसे में कैंसर व ह्रदय रोग विभागके डॉक्टर्स कीटीम द्वारा रोगी का ऑपरेशन करने के लिए उसे तैयार किया गया, इसके पश्चात् रोगी की रेडिकल सर्जरी की गयी जिसमें लगभग 5 घंटे का समय लगा| ऑपरेशन के पश्चात् रोगी का कैंसर एवं ह्रदय रोग विभाग कीटीम द्वारा निरिक्षण जारी रहा| ऑपरेशन के बाद सातवें दिन रोगी को छुट्टी दे दी गयी| रोगी के ऑपरेशन को 8 माह हो चुके हैं, रोगी अभी स्वस्थ है एवं अपनी दिनचर्या निर्वाह करने में समर्थ है| डॉ आशीष ने कहा कि रोगी की गंभीर स्थिति होने के बावजूद भी रोगी का सफल इलाज हो सकता है| गीतांजली हॉस्पिटल में अनुभवी टीम और मल्टीडीसीप्लिनरी अप्प्रोच के साथ जटिल ऑपरेशन किये जा रहे हैं, जिससे रिस्क और भी कम हो जाता है|

गीतांजली मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल पिछले सतत् 15वर्षों से एक ही छत के नीचे सभी विश्वस्तरीय सेवाएं दे रहा है और चिकित्सा क्षेत्र में कीर्तिमान स्थापित करता आया है, गीतांजली हॉस्पिटल में कार्यरत डॉक्टर्स व स्टाफ गीतांजली हॉस्पिटल में आने प्रत्येक रोगी के इलाज हेतु सदेव तत्पर है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *